थॉयराइड आज के समय में एक आम स्वास्थ्य समस्या बन चुकी है और महिलाओं में यह समस्या अधिक देखी जाती है। थॉयराइड वास्तव में एक तितली के आकार की ग्रंथि है, जो मेटाबॉलिज्म की स्पीड को नियंत्रित करने वाले हार्मोन का उत्पादन करती है। थायराइड विकार थायराइड हार्मोन के उत्पादन को बाधित करके चयापचय को धीमा या संशोधित कर सकते हैं। ऐसे में जब हार्मोन का स्तर बहुत कम या बहुत अधिक हो जाता है, तो आपको इसके लक्षण भी नजर आते हैं। तो चलिए आज उन्हीं लक्षणों पर चर्चा करते हैं−


वजन का बढ़ना या घटना
हेल्थ एक्सपर्ट बताते हैं कि वजन का बिना किसी विशेष कारण के घटना या बढ़ना थॉयराइड का सबसे पहला व प्रमुख लक्षण माना जाता है। वजन बढ़ना थायराइड हार्मोन के निम्न स्तर का संकेत दे सकता है, एक स्थिति जिसे हाइपोथायरायडिज्म कहा जाता है। इसके विपरीत, यदि थायरॉयड शरीर की जरूरत से ज्यादा हार्मोन का उत्पादन करता है, तो आप अप्रत्याशित रूप से अपना वजन कम कर सकते हैं। यह हाइपरथायरायडिज्म के रूप में जाना जाता है।

गर्दन में सूजन
हेल्थ एक्सपर्ट के अनुसार, थॉयराइड होने पर अक्सर गर्दन में सूजन भी हो सकती है। थॉयराइड होने पर आपको गलगंड भी हो सकता है। कभी−कभी गर्दन में सूजन थायरॉयड कैंसर या नोड्यूल के कारण हो सकती है, एक गांठ जो थायरॉयड के अंदर बढ़ती है।

हार्ट रेट में बदलाव
थायराइड हार्मोन शरीर के लगभग हर अंग को प्रभावित करते हैं और इसमें आपका हृदय भी शामिल है। हाइपोथायरायडिज्म से प्रभावित लोगों में हृदय की गति को सामान्य से धीमी हो सकती है। वहीं, हाइपरथायरायडिज्म के कारण हृदय तेज हो सकता है।

ऊर्जा या मूड में परिवर्तन
थायराइड विकार का आपके ऊर्जा स्तर और मूड पर भी प्रभाव पड़ता है। हाइपोथायरायडिज्म लोगों को थका हुआ, सुस्त और उदास महसूस कराता है। हाइपरथायरायडिज्म के कारण चिंता, नींद न आना, बेचैनी और चिड़चिड़ापन हो सकता है।

बालों का झड़ना
हेल्थ एक्सपर्ट के अनुसार, बालों का झड़ना भी थॉयराइड विकार का एक लक्षण है। हाइपोथायरायडिज्म और हाइपरथायरायडिज्म दोनों के कारण बाल झड़ सकते हैं। ज्यादातर मामलों में, थायराइड विकार का इलाज होने के बाद बाल वापस उग जाते हैं।

बहुत अधिक ठंडा या गर्म महसूस होना
थायराइड विकार शरीर के तापमान को विनियमित करने की क्षमता को बाधित कर सकते हैं। हाइपोथायरायडिज्म वाले लोगों को अक्सर सामान्य से अधिक ठंड महसूस होती है। वहीं, हाइपरथायरायडिज्म का विपरीत प्रभाव पड़ता है, जिससे अत्यधिक पसीना और गर्मी का सामना करना पड़ता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here