झारखंड में हेमंत सरकार ने कहा था कि हमारी सोच हमेशा से यह रही है कि योजनाओं का लाभ सभी जरूरतमंद को मिले। अगर योजनाओं का लाभ प्रदेश निवासी को मुहैया नहीं होगा, तो योजना बनाने का औचित्य क्या है। सरकार ने कहा अगर किसी कारणवश जरूरतमंद सरकार की योजनाओं तक अपनी पहुंच बनाने में असमर्थ हैं तो क्यों ना सरकार योजनाएं लेकर उनके दरवाजे तक पहुंचे।

यही सोच के तहत झारखंड सरकार इस साल भी”आपके अधिकार-आपकी सरकार आपके द्वार” कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। यह अभियान 12 अक्टूबर से शुरू होकर दो चरणों में 14 नवंबर तक आयोजित होना है।
यह कार्यक्रम झारखंड के सभी जिलों में जोर सोर से चलाया जा रहा है।इसी क्रम में आज दुमका के रानीश्वर प्रखंड अन्तर्गत पंचायत तालडांगाल में शिविर आयोजित किया गया। शिविर में कुल 13 स्टॉल लगाए गए थे जिनमें एक स्टॉल पीएचडी विभाग का भी लगाया गया था।तालडांगाल पंचायत के ही दर्जनों ग्रामीण इस शिविर में अपनी कई वर्षों पुरानी पेयजल के समस्या या कहें परेशानी को लेकर इस उम्मीद के साथ वहां पहुंचे थे कि सरकार के द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में विभागीय अधिकारी हमारी समस्याओं को सुनकर कोई ना कोई समाधान खोज निकालेगा।

 

आपको याद होगा 29 सितंबर को हमारे ही चैनल के माध्यम से इसी पंचायत के पेयजल समस्या को लेकर एक खबर चलाया गया था कि यहां के ग्रामीण झरना एवं कुआं का पानी पीते हैं।
इस शिविर में आज हमारे रिपोर्टर पीएचडी विभाग के स्टॉल में जाकर इस पंचायत के पेयजल समस्या को लेकर सवाल करने पर पीएचडी विभाग के Je कार्यक्रम में कुछ भी बोलने से इनकार किया कर दिया। जब उनसे दुबारा पुछा गया तो उन्होंने ने कहा हमारे उच्च अधिकारी से बात कीजिए जब उच्च अधिकारी से बात किया गया तो फोन पर ही उसने कहा हमारा Je साहब गए हुए हैं उन से बात कीजिए।
यह काफी ऊहापोह वाली स्थिति थी कि मात्र एक सीधे सवाल के जवाब को गेंद की तरह कभी इधर तो कभी उधर उछाल दिया गया। आखिर वजह क्या है जो इस सवाल का जवाब निरुत्तर रह गया।

 

आम जन आखिर जानना चाहेंगी इस कार्यक्रम के सफलता का आधार क्या है ?
साहब ये अर्धसत्य नहीं पुर्ण सत्य है कि सरकार कितनी भी नीति नियोजन बनावे लेकिन साहब लोगों के निष्क्रियता के कारण ही योजनाएं धरातल पर नहीं उतर पाते। किसी भी सरकार की पहली प्राथमिकता शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़क और जल ही होता है। कहते हैं जल ही जीवन है, तो साहब अगर जल ही जीवन है तो इस पंचायत के लोग इस जल की समस्या लेकर कब तक सरकार और विभाग के तरफ आस लगाए बैठे रहेंगे।
सरकार के सबसे सफल माने जाने वाले कार्यक्रम,आप की योजना आप की सरकार आप के द्वार की सफलता का सच तो आने वाला कल ही तय करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.