SBI कस्टमर ध्यान दें! गलती से भी स्कैन ना करें QR कोड, वरना उड़ जाएगा सारा पैसा

0
11
SBI कस्टमर ध्यान दें! गलती से भी स्कैन ना करें QR कोड, वरना उड़ जाएगा सारा पैसा


भारत ने हाल के दिनों में डिजिटलीकरण में तेजी से वृद्धि देखी है। हालांकि, इससे ऑनलाइन धोखाधड़ी और साइबर अपराध के मामलों में भी उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। अब साइबर अपराधी नए क्यूआर कोड फ्रॉड से लोगों को ठग रहे हैं।

चूंकि देश में क्यूआर कोड धोखाधड़ी के मामले बढ़ रहे हैं, देश के सबसे बड़े सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक, भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने अपने 44 करोड़ ग्राहकों को इस बढ़ते घोटाले के बारे में चेतावनी दी है। बैंक ने माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर इस मामले को लेकर एक पोस्ट शेयर कर अपने खाताधारकों को अलर्ट किया है. बैंक ने कहा कि अगर आपको किसी व्यक्ति से कोई क्यूआर कोड मिलता है तो उसे गलती से भी स्कैन न करें। अगर आप ऐसा करते हैं तो आपके बैंक खाते से सारा पैसा निकल सकता है। एसबीआई ने अलर्ट करने के अलावा अपने ग्राहकों को कुछ सेफ्टी टिप्स भी दिए हैं।

एसबीआई ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘पैसे प्राप्त करने के लिए आपको क्यूआर कोड को स्कैन करने की जरूरत नहीं है। हर बार UPI भुगतान करते समय सुरक्षा युक्तियों को याद रखें।”

क्यूआर कोड धोखाधड़ी क्या है?

एसबीआई ने कहा कि क्यूआर कोड हमेशा भुगतान करने के लिए उपयोग किया जाता है, भुगतान लेने के लिए नहीं। ऐसे में अगर आपको कभी भी कोई मैसेज या मेल आता है जो आपसे पेमेंट रिसीव करने के नाम पर क्यूआर कोड स्कैन करने को कहता है तो गलती से भी इन कोड को स्कैन न करें। इससे आपका खाता खाली हो सकता है। बैंक ने बताया कि जब आप क्यूआर कोड स्कैन करते हैं तो आपको पैसे नहीं मिलते हैं, लेकिन मैसेज आता है कि बैंक खाते से पैसे निकल गए हैं.

SBI द्वारा दिए गए UPI सेफ्टी टिप्स

एसबीआई ने ट्वीट में अपने ग्राहकों के लिए कुछ सेफ्टी टिप्स भी दिए हैं। इसलिए, आपको कोई भी UPI ट्रांजैक्शन करने से पहले इन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

कोई भी भुगतान करने से पहले UPI आईडी वेरिफाईकरें।

UPI भुगतान करते समय कुछ सुरक्षा नियमों का पालन किया जाना चाहिए।

UPI पिन केवल मनी ट्रांसफर के लिए आवश्यक है, प्राप्त करने के लिए नहीं।

पैसे भेजने से पहले हमेशा मोबाइल नंबर, नाम और यूपीआई आईडी वेरिफाई करें।

कभी भी UPI पिन किसी के साथ शेयर न करें।

फंड ट्रांसफर के लिए स्कैनर का ठीक से इस्तेमाल करें।

आधिकारिक स्रोतों के अलावा अन्य से समाधान न मांगें।

किसी भी भुगतान या तकनीकी समस्या के लिए ऐप के सहायता अनुभाग का उपयोग करें।

किसी भी विसंगति के मामले में, बैंक के शिकायत निवारण पोर्टल https://crcf.sbi.co.in/ccf/ के माध्यम से समाधान प्राप्त करें।

 



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here