हाथ से फिसला एक स्वर्ण पदक ! नीरज चोपड़ा कॉमनवेल्थ गेम्स का नहीं होंगे हिस्सा, जानिए इसकी वजह

0
10
हाथ से फिसला एक स्वर्ण पदक ! नीरज चोपड़ा कॉमनवेल्थ गेम्स का नहीं होंगे हिस्सा, जानिए इसकी वजह


ANI Image

राष्ट्रमंडल खेल गुरुवार से शुरू होंगे। भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) महासचिव राजीव मेहता ने कहा कि चोपड़ा का सोमवार को अमेरिका में एमआरआई किया गया और उन्हें एक महीने के विश्राम की सलाह दी गई है। उन्होंने कहा कि भारतीय टीम के भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा की आज सुबह अमेरिका से फोन पर मुझसे बात हुई

बर्मिंघम। भाला फेंक के स्टार खिलाड़ी नीरज चोपड़ा विश्व चैंपियनशिप के दौरान जांघ की मांसपेशियों में खिंचाव आने के कारण मंगलवार को राष्ट्रमंडल खेलों से हट गए, जिससे भारत की एथलेटिक्स में पदक की संभावनाओं को करारा झटका लगा। चोपड़ा ने रविवार को यूजीन में विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में ऐतिहासिक रजत पदक जीता था। इस 24 वर्षीय ओलंपिक चैंपियन को बर्मिंघम में पुरुषों के भाला फेंक में अपने खिताब का बचाव करना था। राष्ट्रमंडल खेल गुरुवार से शुरू होंगे। चोपड़ा के हटने का मतलब है कि राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान ग्रेनाडा के विश्व चैंपियन एंडरसन पीटर्स के साथ उनका मुकाबला देखने को नहीं मिलेगा। भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) महासचिव राजीव मेहता ने कहा कि चोपड़ा का सोमवार को अमेरिका में एमआरआई किया गया और उन्हें एक महीने के विश्राम की सलाह दी गई है।

इसे भी पढ़ें: Commonwealth Games: सफर के आगाज से मेडल की बरसात तक, राष्ट्रमंडल खेलों में भारत के प्रदर्शन पर एक नजर 

उन्होंने कहा, ‘‘ भारतीय टीम के भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा की आज सुबह अमेरिका से फोन पर मुझसे बात हुई और उन्होंने फिटनेस चिंताओं के कारण बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेलों में भाग लेने में असमर्थता जताई।’’ मेहता ने कहा, ‘‘ यूजीन में विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में भाग लेने के बाद चोपड़ा ने सोमवार को एमआरआई कराया था और उनकी चिकित्सा टीम ने उन्हें एक महीने विश्राम करने की सलाह दी है।’’ इस एथलीट के करीबी सूत्रों के अनुसार यह मांसपेशियों में मामूली खिंचाव है लेकिन एहतियात के तौर पर उन्हें विश्राम करने की सलाह दी गई है। यह 24 वर्षीय खिलाड़ी विश्व चैंपियनशिप में पदक जीतने वाला दूसरा भारतीय एथलीट बना था। उनसे पहले अंजू बॉबी जॉर्ज ने 2003 विश्व चैंपियनशिप में लंबी कूद में कांस्य पदक जीता था। चोपड़ा ने विश्व चैंपियनशिप में अपने चौथे प्रयास में 88.13 मीटर भाला फेंक कर रजत पदक जीता था। तब वह असहज महसूस कर रहे थे।

इसे भी पढ़ें: भारतीय टेबल टेनिस टीम के लिए आसान नहीं होगा बर्मिंघम में गोल्ड कोस्ट की बराबरी करना

चोपड़ा ने अपनी स्पर्धा के बाद कहा था, ‘‘ मैंने सोचा कि मेरा चौथा थ्रो उससे भी आगे जा सकता था। उसके बाद मुझे अपनी जांघ में कुछ खिंचाव महसूस हुआ और मैं अगले दो प्रयास में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर पाया।’’ भारतीय एथलेटिक्स महासंघ (एएफआई) के अध्यक्ष आदिल सुमारिवाला ने कहा कि वह चोपड़ा के संपर्क में हैं ताकि उन्हें चोट से उबरने में मदद कर सकें। उन्होंने कहा, ‘‘ नीरज ने कहा कि वह राष्ट्रमंडल खेलों में भाग लेने के लिए शत-प्रतिशत फिट नहीं है और इसलिए वह उद्घाटन समारोह में भारतीय दल के ध्वजवाहक नहीं बनना चाहेंगे।’’ सुमारिवाला ने कहा, ‘‘विश्व चैंपियनशिप के फाइनल के दौरान नीरज असहज नजर आ रहे थे। हम उनके निरंतर संपर्क में हैं ताकि उन्हें पूर्ण फिटनेस हासिल करने में मदद कर सकें।’’ इस बीच भारतीय दल के दल प्रमुख राजेश भंडारी ने पीटीआई से कहा, ‘‘ हमारी अब बैठक होगी जिसमें नए ध्वजवाहक का चयन किया जाएगा।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



अन्य न्यूज़



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here