सावन के पावन महीने में रोजाना हर दिन भगवान शिव की पूजा की जाती है और हिंदू धर्म में इसका खास स्थान हैं। सावन में शिव के भक्त एक महीने तक उपवास रखते हैं।

इस साल सावन का महीना आज से शुरू होकर 12 अगस्त तक रहेगा । इस दौरान सभी मंदिरों में भगवान शिव और उनके परिवार की विशेष पूजा अर्चना की जाएगी।

सावन का महीना चातुर्मास में आता है और इसका कारण यह है कि भगवान विष्णु चार महीने योग निद्रा में रहते हैं। कहा जाता है कि सावन में अगर आप सच्चे मन से भगवान शिव को ढेर सारा जल चढ़ाएं तो वह प्रसन्न होते हैं।

सावन सोमवार 2022: तिथियां, महत्व और पूजा का समय

सावन मास 2022 के समापन कलैण्डर के अनुसार सावन मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि गुरुवार 11 अगस्त को प्रातः 10.38 बजे से प्रारंभ हो रही है। यह तिथि अगले दिन प्रातः 07:05 बजे तक मान्य रहेगी। उदयतिथि के आधार पर सावन पूर्णिमा 12 अगस्त तक रहेगा। जिसके बाद शुक्रवार 12 अगस्त को सावन का महीना समाप्त हो जाएगा।

सावन के महीने में सावन सोमवार व्रत और मंगला गौरी व्रत का बहुत महत्व माना जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.