संयुक्त राष्ट्र : संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि वह यूक्रेन में युद्ध और इथियोपिया, मोजाम्बिक के साथ ही अफ्रीका के मध्य साहेल क्षेत्र में संघर्षों में बच्चों के खिलाफ किसी भी प्रकार के अपराध पर नजर रखेगा। इनमें हत्या,दुष्कर्म और अन्य प्रकार की यौन हिसा शामिल हैं। महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने 'बच्चों तथा सशस्त्र संघर्ष पर अपनी वार्षिक रिपोर्ट में कहा कि संयुक्त राष्ट्र पहले से ही 21 संघर्ष क्षेत्रों में बच्चों की स्थिति पर निगाह रख रहा है और उसमें ये चार नए संघर्ष क्षेत्र भी शामिल किए जा रहे हैं।

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने कहा कि बढ़ते संघर्षों से बच्चों की सुरक्षा बुरी तरह प्रभावित हुई है साथ ही सशस्त्र समूहों के कई गुना बढ़ने , बारूदी सुरंगों और घनी आबादी वाले क्षेत्रों में विस्फोटक के इस्तेमाल की घटनाओं ने मानवीय संकट बहुत बढ़ा दिया है। इनसे मानवाधिकारों के उल्लंघन की घटनाएं भी बढ़ी हैं। ''बच्चों और सशस्त्र संघर्ष पर संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत वर्जीनिया गांबा ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा, ''बेहद हिसक सशस्त्र समूहों के हमले, सैन्य तख्तापलट और अस्थिरता, कुछ देशों में हिसक चुनावी प्रक्रियाओं ने 21 देशों में वर्ष 2021 के दौरान 19,100 बच्चों को भयानक स्थिति में ला दिया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि 'गंभीर अपराधके सबसे अधिक मामले अफगानिस्तान, कांगो, इज़राइल, फिलिस्तीनी क्षेत्रों, सोमालिया, सीरिया और यमन में हैं।
गुतारेस ने कहा कि यूक्रेन को भी अब निगरानी सूची में रखा जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.