एनबीए 2021-22 का खिताब गोल्डन स्टेट वॉरियर्स ने अपने नाम किया। पिछले दो सीज़न में प्लेऑफ़ में जगह बनाने में नाकाम रहने के बाद गोल्डन स्टेट वॉरियर्स ने फ़ाइनल में बोस्टन सेल्टिक्स को 4-2 से हराया। यह पिछले 8 सालों में गोल्डन स्टेट वॉरियर्स की चौथी चैंपियनशिप थी और अगर ओवरऑल देखा जाए तो टीम की सातवीं चैंपियनशिप थी।

नेशनल बास्केटबॉल एसोसिएशन (NBA) का पहला सीज़न साल 1949 में खेला गया था। लेकिन भारत के साथ इसका जुड़ाव साल 2019 में हुआ। भारत में सबसे ज्यादा क्रिकेटप्रेमियों की भरमार है लेकिन समय के साथ-साथ दूसरे खेलों के प्रति भी प्रशंसकों की रूचि पनपने लगी है। ऐसे में खिलाड़ियों को भी अथाह समर्थन मिल रहा है।

इसे भी पढ़ें: मिताली राज ने रचा इतिहास, महिला अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सर्वाधिक रन बनाने वाली क्रिकेटर बनीं 

एनबीए उत्तरी अमेरिकी की पेशेवर बास्केटबॉल लीग है और इसमें भारत ने भी अपनी पकड़ बनाना शुरू कर दिया है। लेकिन आज हम बात भारत की नहीं बल्कि एनबीए लीग 2021-22 के फाइनल की करने वाले हैं। जिससे जुड़ी हुई तमाम रोचक जानकारियां और तथ्य हम आपके समक्ष पेश करेंगे।

NBA 2021-22 विजेता

एनबीए 2021-22 का खिताब गोल्डन स्टेट वॉरियर्स ने अपने नाम किया। पिछले दो सीज़न में प्लेऑफ़ में जगह बनाने में नाकाम रहने के बाद गोल्डन स्टेट वॉरियर्स ने फ़ाइनल में बोस्टन सेल्टिक्स को 4-2 से हराया। यह पिछले 8 सालों में गोल्डन स्टेट वॉरियर्स की चौथी चैंपियनशिप थी और अगर ओवरऑल देखा जाए तो टीम की सातवीं चैंपियनशिप थी। इस सीजन में निकोला योकिच को मोस्ट वैल्युएबल प्लेयर चुना गया।

गोल्डन स्टेट वॉरियर्स के चैंपियनशिप जीतने के बाद उसकी जमकर प्रशंसा हुई। कई विश्लेषकों ने तो गोल्डन स्टेट वॉरियर्स को एनबीए इतिहास की सबसे बेहतरीन टीमों में से एक होने का दावा किया।

गोल्डन स्टेट वॉरियर्स की स्थापना साल 1946 में हुई थी। साल 1947 में गोल्डन स्टेट वॉरियर्स ने बास्केटबॉल एसोसिएशन ऑफ अमेरिका (बीएए) का खिताब अपने नाम किया। इसके बाद अगले साल के फाइनल में टीम को हार का सामना करना पड़ा और फिर गोल्डन स्टेट वॉरियर्स 1949 में टीम एनबीए का हिस्सा बन गई। इतना ही नहीं बीएए का एनबीए में विलय भी हो गया।

इसे भी पढ़ें: ओली रॉबिन्सन को क्रिकेट में वापसी की मंजूरी, भारत टेस्ट सीरीज के लिए रहेंगे उपलब्ध 

मुंबई में हुआ था NBA का मुकाबला

भारत-अमेरिका के संबंधों को बेहतर बनाने के लिए एनबीए का पहला मुकाबला भारत में साल 2019 में आयोजित किया गया था। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे ऐतिहासिक क्षण बताया था। मुंबई में पहली बार इंडियाना पेसर्स और सैक्रामेंटो किंग्स ने एसवीपी स्टेडियम में अपना जलवा बिखेरा।

यूं तो बास्केटबॉल का भारत के साथ रिश्ता काफी पुराना है। ओलंपिक खेलों में भारत ने साल 1980 में बास्केटबॉल में हिस्सा लिया था और तो और साल 2000 में भारत में बास्केटबॉल का प्रसारण भी शुरू हो गया था। इसके बाद एबीए ने भारत में अपनी अकादमी की भी स्थापना की, जहां पर खिलाड़ियों को तैयार किया जा रहा है।

सतनाम सिंह पहले ऐसे भारतीय हैं, जिन्होंने एबीए का सफर तय किया। उन्होंने पंजाब की गलियों से निकलकर भारतीय तिरंगे को गौरवान्वित किया।

कौन है भारत का NBA ब्रांड एंबेसडर ?

एनबीए ने बॉलीवुड अभिनेता रणवीर सिंह को भारत के लिए अपना ब्रांड एंबेसडर नामित किया था। दरअसल, एनबीए ने अपनी 75वीं वर्षगांठ के मौके पर भारत में इसकी प्रतिष्ठा को बढ़ाने के लिए रणवीर सिंह को जिम्मेदारी सौंपी गई थी। ऐसे में रणवीर सिंह ने 2021-22 के सीजन में कई लीग में हिस्सा लिया।

इसे भी पढ़ें: विलियमसन फिर ICC टेस्ट रैंकिंग के शीर्ष पर पहुंचे, विराट कोहली चौथे स्थान पर बरकरार 

आपको बता दें कि एनबीए एक वैश्विक खेल और मीडिया व्यवसाय है, जो 4 पेशेवर खेल लीगों का प्रतिनिधित्व करता है। जिसमें नेशनल बास्केटबॉल एसोसिएशन, महिला नेशनल बास्केटबॉल एसोसिएशन, एनबीए जी लीग और एनबीए 2के लीग शामिल है।



Leave a Reply

Your email address will not be published.