जानें Intermittent Fastingके दौरान क्यों नहीं पीनी चाहिए ज्यादा मात्रा में ब्लैक कॉफ़ी, जानें कारण

0
8
जानें Intermittent Fastingके दौरान क्यों नहीं पीनी चाहिए ज्यादा मात्रा में ब्लैक कॉफ़ी, जानें कारण


इंटरमिटेंट फास्टिंग वजन कम करने के सबसे प्रभावी तरीकों में से एक माना जाता है। एक व्यक्ति को एक निश्चित खाने के पैटर्न का पालन करना होता है जिसमें आपको 8 घंटे या 16 घंटे का उपवास करना होता है। वजन घटाने वाला आहार तब प्रभावी होता है जब वजन आसानी से कम करने की बात आती है। उपवास के समय के दौरान, एक व्यक्ति को ऐसे ड्रिंक का सेवन करने की अनुमति दी जाती है जो कैलोरी की मात्रा को बढ़ाए बिना शरीर को एनर्जी प्रदान करने में मदद करते हैं। वह है ब्लैक कॉफी। ब्लैक कॉफी को रियल में शरीर को एनर्जी प्रदान करने में कारगर बताया गया है।

कॉफी में कुछ ऐसे तत्व होते हैं जो शरीर में 'जीआरईडी लक्षण' को बढ़ाते हैं।

कहा जाता है कि कॉफी चिंता के लक्षणों को बढ़ाती है और हमें पैनिक अटैक के प्रति अधिक संवेदनशील बनाती है।

जिन लोगों को पहले से कोई हृदय रोग, हाई ब्लडया प्रेशर या उच्च हृदय गति है, उन्हें उपवास के समय के दौरान कॉफी से बचना चाहिए।

हार्मोनल असंतुलन से पीड़ित महिलाओं को भी कॉफी से दूर रहने की सलाह दी जाती है क्योंकि यह एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन अनुपात को असंतुलित करके "एस्ट्रोजन मेटाबोलाइट्स में असंतुलन" पैदा कर सकती है।

"कॉफी लेवोथायरोक्सिन के अवशोषण को प्रभावित करती है जिसका उपयोग थायरॉयड दवाओं में किया जाता है।

अतिरिक्त कैफीन को पाचन संबंधी समस्याएं पैदा करने और मल त्याग को तेज करने के लिए भी कहा जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here