अभिनेता केविन स्पेसी के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोप में दायर दीवानी मुकदमे की न्यूयॉर्क की संघीय अदालत में सुनवाई की जा सकती है। एक संघीय न्यायाधीश ने सोमवार को यह फैसला सुनाया। न्यायमूर्ति लुईस ए कप्लान ने एक लिखित फैसले में कहा कि अभिनेता एंथोनी रैप द्बारा स्पेसी के खिलाफ लगाए गए आरोपों पर कानूनी तौर पर गौर किए जाने की जरूरत है। मामला 1986 का है, जब रैप 14 वर्ष के थे।


न्यायाधीश ने कहा, “रैप ने आरोप लगाया है कि स्पेसी ने उन्हें पलंग पर धकेला और खुद भी उनके पास लेट गए। इसके बाद वह उनके बेहद करीब आ गए। हालांकि, रैप तुरंत बेड से उठे और परिसर से बाहर निकल गए।” रैप ने मुकदमे में हर्ज़ाने की मांग की है और आरोप लगाया है कि ऐसा जानबूझकर किया गया, जिससे उन्हें भावनात्मक रूप से काफी ठेस पहुंची। हालांकि, रैप ने यह भी कहा है कि स्पेसी ने उन्हें चूमा नहीं, न ही उनके कपड़े उतारे और न ही दोनों के बीच किसी तरह का यौन संपर्क हुआ। दोनों केवल दो मिनट तक बेहद करीब थे।


स्पेसी ने रैप द्बारा लगाए गए सभी आरोपों को खारिज किया है। न्यायमूर्ति कप्लान ने कहा कि न्यूयॉर्क के ‘बाल उत्पीड़न अधिनियम’ के तहत जिन मामलों पर दोबारा विचार किया जा रहा है, उनमें यह मामला शामिल नहीं है। गौरतलब है कि 2019 में इस कानून के तहत अस्थायी रूप से लोगों को ऐसे मामलों में अपील करने की अनुमति दी गई थी, जिन पर पहले सुनवाई रोक दी गई थी। रैप और स्पेसी के वकीलों ने मामले में कोई टिप्पणी नहीं की है। 

 

 



Leave a Reply

Your email address will not be published.