हैदराबाद |  वर्ष 2०14 में एक अलग राज्य के तौर पर तेलंगाना का गठन होने के बाद से अब तक यह राज्य 2.34 लाख करोड़ रुपये से अधिक का निवेश आकर्षित करने में सफल रहा है। तेलंगाना सरकार की एक आधिकारिक रिपोर्ट में यह दावा किया गया है। इसके मुताबिक, उद्यमियों को तय समय के भीतर जरूरी मंजूरियां देने के लिए लाए गए तेलंगाना राज्य औद्योगिक परियोजना अनुमति एवं स्व-प्रमाणन प्रणाली (टीएस-आईपास) अधिनियम की इसमें अहम भूमिका रही है।

रिपोर्ट कहती है कि आज की तारीख तक राज्य में 2,34,836 करोड़ रुपये के निवेश प्रस्तावों को मंजूरी दी जा चुकी है। इससे 76,56,460 लोगों को रोजगार मिलने का अनुमान है। इनमें से 1.33 लाख करोड़ रुपये निवेश योजना वाली 15,747 इकाइयों ने अपना कामकाज शुरू भी कर दिया है और वे 9.95 लाख लोगों को रोजगार दे रही हैं।

इस रिपोर्ट के मुताबिक तेलंगाना राज्य औद्योगिक विकास एवं उद्यमी उन्नति (टी-आइडिया) प्रोत्साहन योजना, 2014 के जरिये राज्य सरकार उद्यमियों को कई तरह के प्रोत्साहन दे रही है। अभी तक 200 बीमार कंपनियों को मदद भी दी जा चुकी है।रामागुंडम फर्टिलाइजर्स एंड केमिकल्स लिमिटेड को फिर से शुरू करने के लिए राज्य सरकार ने 11 प्रतिशत इक्विटी के अलावा 261 करोड़ रुपये की राशि भी जारी की है। वहीं सिरपुर पेपर मिल्स लिमिटेड, आदिताबाद को दोबारा चालू करने के लिए सरकार ने जेके पेपर्स लिमिटेड के प्रस्ताव को स्वीकृति दे दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.