चेन्नई। भारतीय रेलवे 16० किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से चलने वाली देश की पहली सेमी हाई स्पीड मालगाड़ी ‘गतिशक्ति का निर्माण कर रही है और वंदे भारत एक्सप्रेस के प्लेटफॉर्म पर बनने वाली इस ट्रेन का पहला रैक इस साल के अंत तक तैयार हो जाएगा।

चेन्नई में रेलवे की इंटीग्रल कोच फैक्टरी (आईसीएफ) में गतिशक्ति के दो रैकों का निर्माण शुरू हो चुका है। रेलवे बोर्ड ने हालांकि ऐसी 25 मालगाड़यिों के निर्माण का लक्ष्य तय किया है।आईसीएफ के महाप्रबंधक अतुल अग्रवाल ने यहां राष्ट्रीय मीडिया के प्रतिनिधियों से बातचीत में यह जानकारी देते हुए कहा कि देश की पहली सेमी हाई स्पीड मालगाड़ी का पहला रैक दिसंबर 2022 में पटरी पर उतर आएगा और उसके कुछ दिनों में दूसरा रैक भी आ जाएगा।

उन्होंने कहा कि दोनों रैक को मालवहन बाजार में कैसा बिजनेस मिलता है, उसके आधार पर आगे निर्माण की समय-सीमा तय की जाएगी।सेमी हाई स्पीड मालगाड़ी के बारे में उन्होंने बताया कि यह 16 कोच वाली गैर वातानुकूलित गाड़ी होगी। इसमें हवाई जहाज में कार्गो ढुलाई के काम आने वाले एलडी छह और एलडी नौ श्रेणी के कंटेनर रखे जा सकेंगे। दो कोच वातानुकूलित कंटेनर के लिए होंगे जिनमें दुग्ध उत्पाद, मछली, फल सब्जियों आदि को ले जाया जा सकेगा। उनके लिए विद्युत कनेक्शन कोच से दिया जाएगा। बाकी कोचों में कंटेनर को खिसकाने-धकेलने के लिए रोलर लगे होंगे। कोच में दो चौड़े दरवाजे लगे होंगे जिनसे कंटेनरों को रखा या उतारा जा सकेगा।

आईसीएफ के एक अन्य अधिकारी ने कहा कि गतिशक्ति मालगाड़ी का फोकस मुख्यत: पार्सल, कूरियर, ई-कॉमसã और खाने-पीने की वस्तुओं के परिवहन पर रहेगा। उन्होंने कहा कि ये गाड़यिां वंदे भारत एक्सप्रेस की तरह ही 16० किलोमीटर प्रतिघंटा की गति से चलेंगी। सेमी हाई स्पीड मालगाड़ी सस्ते और सुपरफास्ट मालवहन के लिए बड़ा आकर्षक विकल्प बनने की संभावना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.