विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर तम्बाकू दहन कार्यक्रम व तम्बाकू बहिष्कार शपथ कार्यक्रम का भव्य आयोजन

0
32
  • पद्मश्री डॉ आर एन सिंह,आईजी पटना विजय कुमार वर्मा,एसएसपी पटना मानवजीत सिंह सहित कई संगठनों के हजारों लोग हुए शामिल

 

पटना। 30 मई को पूरे दुनिया मे विश्व तंबाकू निषेध दिवस। इस खास दिन विश्व स्तर पर तम्बाकू के उपयोग से होने वाले नुकसान के बारे में बिभिन्न तरह से जागरूकता कार्यक्रमो का आयोजन किया जाता है। बिहार वासियों को जागरूक करने के लिए पटना स्थित सवेरा कैंसर हॉस्पिटल एवं आर एस मेमोरियल कैंसर सोसाइटी के संयुक्त तत्वधान में एक भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें उपस्थित हजारों लोगो ने तम्बाकू दहन कार्यक्रम तथा तम्बाकू बहिस्कार का शपथ लिया गया ।
इस अवसर पर प्रख्यात कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ० वी० पी० सिंह ने कहा धूम्रपान का सेवन करना, स्पष्टतः जीवन को नरक से भी बदत्तर बनाना है। इससे आर्थिक, शारीरिक और सामाजिक आदि हर स्तर पर नुकसान ही नुकसान होता है। एक तरह से धूम्रपान एवं तम्बाकू का सेवन, खुशहाल जीवन का अजेय दुश्मन कहा जा सकता है। यदि विशेषज्ञों की शोध रिपोर्टों को माने और धूम्रपान एवं तम्बाकू के कुप्रभावों का आकलन किया जाए तो रौंगटे खड़े हो जाते हैं। एक अनुमान के मुताबिक विश्व में लगभग डेढ़ अरब लोग धूम्रपान करते हैं और लगभग 50 लाख लोग प्रतिवर्ष धूम्रपान के घातक प्रभावों के कारण अकाल मौत के शिकार हो जाते हैं। सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि इन धूम्रपान करने वालों के सम्पर्क में रहने के कारण प्रतिवर्ष धूम्रपान न करने वाले 6 लाख अतिरिक्त व्यक्ति की भी मौत होती है। विशेषज्ञों के अनुसार वर्ष 2030 तक तम्बाकू सेवन से होने वाली मृत्यु की संख्या बढ़कर 80 लाख प्रतिवर्ष हो जाएगी। वर्ष 2050 तक धूम्रपान के कारण होने वाली बिमारियों से मरने वालों की संख्या 4 करोड़ तक पहुँच जाएगी।

कैंसर सर्जन डॉ० आकाश सिंह
डॉ० अविनाश पांडेय ने भी अपने विचार रखें। पटना ऐम्स के रेडियोथेरेपी डिपार्टमेंट की हेड डॉ० प्रीतांजलि सिंह ने तम्बाकू से होने वाले नुकसान के विषय मे आगे बताया कि एक अधिसूचना के मुताबिक गुटखा एक खाद्य पदार्थ है, इसलिए इसमें तम्बाकू और निकोटिन नहीं मिलाए जा सकते ।, 2 अक्तूबर, 2008 को गाँधी जयन्ती से पूरे देशभर में अधिसूचना जीएसआर 417 (ई) दिनांक 30 मई, 2008 के अनुरूप केन्द्र सरकार ने ‘सार्वजनिक स्थलों पर धूम्रपान’ से संबंधित नियम संशोधित करके पूर्णत लागू कर दिया गया था। इन संशोधित नियमों के अन्तर्गत धूम्रपान सभी सार्वजनिक स्थानों पर सख्ती से निषिद्ध है। ‘सार्वजनिक स्थलों’ में आडिटोरियम, अस्पताल भवन, स्वास्थ्य स्थान, मनोरंजन केन्द्र, रेस्टोरेंट, सार्वजनिक कार्यालय, न्यायालय भवन, शिक्षण पुस्तकालय, सार्वजनिक यातायात स्थल, स्टेडियम, रेलवे स्टेशन, बस स्टॉप, कार्यशाला, शॉपिंग मॉल, सिनेमा हॉल, रिफ्रेशमेंट रूम, डिस्को, कॉफी हाऊस, बार, पब्स, एयरपोर्ट लॉज आदि शामिल किए गए हैं।

मौके पर मौजूद माननीय मानवजीत सिंह ढिल्लों SSP Patna ने कहा की तंबाकू का उपयोग दृढ़ निश्चय करके ही छोड़ा जा सकता है। विजय कुमार वर्मा I.G.Patna, सुवर्णा सजवान Commandant 40th Battalion SSB Danapur, के साथ मिलकर लोगो को तम्बाकू को त्यागने की शपथ दिलाई। समारोह में पद्मश्री डॉ० आर० एन० सिंह, President विश्व हिन्दू परिषद् के मार्गदर्शन में हुआ। मौके पर डॉ० आकाश सिंह, डॉ० एस० सिरकार, डॉ० आर के सक्सेना, डॉ विशाल सिंह, डॉ फैज़ , डॉ समीउल्लाह, डॉ विवेक पांडेय, डॉ प्रियेश , डॉ सुभाष , Inner Wheel Club Patna, Royal Enfield Bikers Club, Indian Cancer Society, Mahila Vikas Manch, Rotary Mid Town, Society of Oncology के सदस्यों के सहयोग से सम्पन हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here