लखनऊ: उत्तर प्रदेश में 12 से 14 साल के बच्चों का कोविड-19 टीकाकरण बुधवार से शुरू हो गया। इस मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ के सिविल अस्पताल पहुंचकर टीका लगवाने आए बच्चों से मुलाकात की और उपहार देकर उनका उत्साह बढ़ाया।

एक बयान के मुताबिक, योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सदी की सबसे बड़ी महामारी के खिलाफ भारत पूरी मजबूती से लड़ रहा है। उन्होंने कहा कि दुनिया ने भारत के कोविड प्रबंधन उपायों की न सिर्फ खुले दिल से तारीफ की है, बल्कि इन्हें अपनाया भी है।

योगी ने दावा किया कि कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ ‘ट्रेसिग, टेस्टिंग, ट्रीटमेंट और टीकाकरण की ‘4टी नीति को हमने पूरी ईमानदारी से लागू किया, जिसका नतीजा यह निकला कि उत्तर प्रदेश ने महामारी पर प्रभावी रूप से नियंत्रण पा लिया।

मुख्यमंत्री ने बताया कि मौजूदा समय में राज्य में सक्रिय मामलों की संख्या घटकर 1००० से भी कम रह गई है और जांच, पहचान व टीकाकारण के मामले में उत्तर प्रदेश देश में पहले स्थान पर है।
उन्होंने कहा कि तीसरी लहर कब शुरू हुई और कब समाप्त हो गई, पता ही न चला और अब जबकि विशेषज्ञ चौथी लहर की आशंका जता रहे हैं, तब भी प्रदेश पूरी मजबूती के साथ लड़ाई के लिए तैयार है।

योगी के अनुसार, उत्तर प्रदेश में अब तक कोविड-19 टीके की 29 करोड़ 54 लाख खुराक दी जा चुकी हैं और 82 फीसदी वयस्क आबादी का पूर्ण टीकाकरण किया जा चुका है।
उन्होंने बताया कि एहतियाती खुराक के लिए पात्र अग्रिम पंक्ति के कर्मचारियों, पुलिसकर्मियों और गंभीर रोगों से जूझ रहे लोगों में से 97 फीसदी लोगों को टीका लग चुका है।

योगी के अनुसार, 15 से 17 वर्ष के आयु वर्ग में ०1 करोड़ 29 लाख 22 हजार से अधिक यानी 92 फीसदी लाभार्थियों ने टीके की पहली खुराक ले ली है, जबकि 65 लाख 50 हजार यानी 47 प्रतिशत लाभार्थियों को दूसरी खुराक हासिल हो चुकी है।

मुख्यमंत्री ने टीकाकरण अभियान को चरणबद्ध ढंग से आगे बढ़ाते हुए 12 से 14 साल के बच्चों का टीकाकरण शुरू करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी का आभार भी जताया।
उन्होंने बताया कि इस आयु वर्ग में लगभग 84 लाख 64 हजार बच्चों का टीकाकरण होना है, जिसके लिए पर्याप्त टीके उपलब्ध हैं। उन्होंने भरोसा दिलाया कि ‘सबको टीका-मुफ्त टीका का संकल्प जरूर पूरा होगा।

.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.