रांची। रांची विश्वविद्यालय 35वें दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया। कोरोना प्रोटोकॉल के तहत मोरहाबादी स्थित आर्यभट्ट सभागार में आयोजित इस कार्यक्रम में राज्यपाल रमेश बैस के द्वारा गोल्ड मेडलिस्ट छात्रों को मेडल और कई छात्रों को डिग्री प्रदान की गई। इस समारोह में 31 दिसंबर 2021 तक जितने भी पाठ्यक्रमों के रिजल्ट का प्रकाशन हुआ है। उनको डिग्री दी गई व सभी रेगुलर, प्रोफेशनल और वोकेशनल पाठ्यक्रमों के टॉपरों को गोल्ड मेडल प्रदान किया गया। शाइन अब्दुर रज्जाक अंसारी इंस्टिट्यूट आॅफ हेल्थ एजुकेशन एंड रिसर्च सेंटर इरबा के छात्रा M.Sc Nursing में गोल्ड मेडल प्राप्त आफरीन निशा (2017-2019) व सोनी प्रसाद (2018-2020) को राज्यपाल रमेश बैस व कुलपति डॉक्टर कामीनी कुमार द्वारा संयुक्त रूप से आर्यभट्ट सभागार रांची में नर्सिंग के क्षेत्र में मेधा सूची प्राप्त दोनों छात्रा को गोल्ड मेडल से सम्मानित किया।

शाइन अब्दुर रज्जाक अंसारी इंस्टिट्यूट आॅफ हेल्थ एजुकेशन एंड रिसर्च सेंटर M.Sc Nursing (2017-2019) सत्र की गोल्ड मेडलिस्ट छात्रा आफरीन निशा प्रथम स्थान पाकर काफी खुश हुई और प्रसन्नता व्यक्त की। कॉलेज में पढ़ाई करने के बाद में चार वर्ष तक काम किया। जिसका मुझे फल प्राप्त हुआ। शाइन अब्दुर रज्जाक अंसारी इंस्टिट्यूट आॅफ हेल्थ एजुकेशन एंड रिसर्च सेंटर M.Sc Nursing (2018-2020) सत्र की गोल्ड मेडलिस्ट सोनी प्रसाद द्वारा कहा गया की मेरा भ्रम था निजी शैक्षणिक संस्थान सही नहीं परन्तु मैं गलत थी। आज मुझे पता चला की निजी संस्थान शाइन अब्दुर रज्जाक अंसारी इंस्टिट्यूट आॅफ हेल्थ एजुकेशन एंड रिसर्च सेंटर बेहतर परिवेष व उच्च तकनीकी शिक्षा प्रदान कर रही है।

सेंटर मैनेजर पूजा प्रकाश ने कहा रांची विश्वविद्यालय 35वें दीक्षांत समारोह में शाइन अब्दुर रज्जाक अंसारी इंस्टिट्यूट आॅफ हेल्थ एजुकेशन एंड रिसर्च सेंटर का 2 छात्रों को मिला गोल्ड मेडल। M.Sc Nursing (2017-2019) सत्र की गोल्ड मेडलिस्ट छात्रा आफरीन निशा और M.Sc Nursing (2018-2020) सत्र की गोल्ड मेडलिस्ट सोनी प्रसाद ने यह साबित कर दिया है कि असली प्रोफेशनल मेडिकल छात्रा होती है। उन्होंने कहा कि शाइन अब्दुर रज्जाक अंसारी इंस्टिट्यूट आॅफ हेल्थ एजुकेशन एंड रिसर्च सेंटर से पढ़ाई की हुई छात्रा को इससे प्रेरणा लेनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.