गिरिडीह। बार एसोसिएशन गिरिडीह के सामने बार एसोसिएशन के अधिवक्तों ने एकदिवसीय धरना प्रदर्शन दिया। धरना का मुख्य उद्देश्य अधिवक्ता पर हो रहे आक्रमण, अधिवक्ताओं के साथ दुर्व्यवहार को लेकर यह धरणा दिया गया। धरने में सभी बार एसोसिएशन के अधिवक्ताओं ने भाग लिया। आज का दिन पेन डाउन रखा गया। धरना प्रदर्शन के माध्यम से यह बताने की कोशिश की गई कि प्रशासन को या समाज को अधिवक्ता जो समाज में न्याय दिलाने के लिए हमारे पास है। उनके साथ दुर्व्यवहार उनके उपर आक्रमण एक निंदनीय कार्य है। जिसको अधिवक्ता परिवार, बार काउंसिल, बार एसोसिएशन किसी भी किसी किमत पर बरदाश्त नहीं करेगा। इस धरना प्रदर्शन में मुख्य रूप से गिरिडीह बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अधिवक्ता प्रकाश सहाय और बार एसोसिएशन के महासचिव चुन्नूकांत भी शामिल रहे।

आज के धारणा का संचालन अधिवक्ता साजिद मोहम्मद द्वारा किया गया। महासचिव चुन्नू कांत ने कहा की एडवोकेट प्रोटेक्शन बिल को जल्द एक्ट उसे तुरंत एक्ट की शक्ल में देख कर इस्तेमाल परित किया जाए। और अधिवक्ता संरक्षण अधिनियम में ऐसा प्रचार किया जाए की कोई भी व्यक्ति अधिकारी से दुर्ब्यवहार करता है उसके खिलाफ गैर जमानती अपराध माना जाए और उसे 6 महीने से लेकर 5 साल तक की जेल दिया जाए। कार्यक्रम में मुख्य रूप से अधिवक्ता मंटू सिन्हा, महिला अधिवक्ताओं में उर्मिला शर्मा, कला सहाय, सुनीता सिंह, अन्य अधिवक्ताओं ने भी अपनी अपनी बातें रखी। इसके अलावा मुख्य रूप से अधिवक्ता बाल गोविंद साहू बबन, अधिवक्ता मित्रा, अमित कुमार सिन्हा, बलराम, केपी यादव, फैयाज अहमद, शिवाजी सिंह, अंजनी सिन्हा, सालिनी सिन्हा, एकलव्य, पुरुषोत्तम, उदय सिन्हा, संजीत आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.