किसान सभा बोकारो जिला कमिटी ने विश्वासघात दिवस मनाया

0
52



बोकारो। बेरमो अनुमंडल मुख्यालय तेनुघाट स्थित महान स्वतंत्रता सेनानी निलाम्बर पीतामबर स्मारक स्थल में अखिल भारतीय किसान सभा की बोकारो जिला कमेटी की ओर से राष्ट्रव्यापी विश्वासघात दिवस का आयोजन किया गया। इस आयोजन के अंतर्गत गणेश प्रसाद महतो की अध्यक्षता में किसान नेताओं ने धरना दिया। धरना का उद्घाटन भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी झारखंड राज्य कार्य समिति के सदस्य और इंसाफ के राष्ट्रीय सचिव इफ्तेखार महमूद ने किया। अपने संबोधन में श्री महमूद ने कहा कि वर्तमान केंद्र सरकार अंग्रेज सरकार का दूसरा संस्करण है, देश के किसानों के साथ केंद्र सरकार विश्वासघात किया है। काला तीनों कानून को तो वापस जरूर लिया किंतु न्यूनतम समर्थन मूल्य के लिए कानून बनाने की प्रक्रिया अभी तक शुरू नहीं की गई है। उन्होंने कहा कि किसानों के साथ भाजपा की सरकार विश्वासघात कर रही है, जिसे स्वीकार नहीं किया जा सकता है।

श्री महमूद ने कहा कि केंद्र सरकार पर बिल्कुल भरोसा नहीं है क्यो कि ये सरकार तो अपने ही देश के लोगों के खिलाफ जासूसी करवाते हुए हाथ पकड़ा चुकी है। धरना को संबोधित करते हुए किसान सभा के प्रदेश उपाध्यक्ष पंचानन महतो ने पुर्व की तरह आंदोलन शुरू करने की चेतावनी सरकार को दिया। किसान सभा के जिलाध्यक्ष गणेश प्रसाद माथुर ने अपने अध्यक्षीय भाषण में विश्वासघात दिवस का विषय प्रवेश करवाया।
धरना को किसान सभा के जिला महासचिव महेंद्र मुंडा केअलावाज नूनूचंद महतो, दिवाकर महतो, समर मांझी ने भी संबोधित किया। वक्ताओं ने भोजपुरी मगही और अंगिका भाषा को बोकारो धनबाद का स्थानीय भाषा घोषित करने का विरोध किया। धरना में मुख्य रूप से गोमिया अंचल के किसान सभा संयोजक देवानंद प्रजापति, खुर्शीद आलम, दीनू रजवार, जीतू सिंह, राधेश्याम महतो, कालू घांसी, राधेश्याम राम, चुंबन महतो, दुर्गा प्रसाद महतो, कमरुल अंसारी, चंडी चरण रविदास, दिलगर केवट, सुरेश प्रजापति, इत्यादि मुख्य रूप से उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here